अपराध/आपदा/दुर्घटना

डार्क वेब पर क्लबहाउस यूजर्स के लाखों फोन नंबर 'बिक्री के लिए

डार्क वेब पर क्लबहाउस यूजर्स के लाखों फोन नंबर
क्लबहाउस यूजर्स के लाखों फोन नंबर कथित तौर पर लीक हो गए हैं और डार्क वेब पर 'बिक्री के लिए' हैं। लोकप्रिय ऑडियो चैट ऐप का डेटासेट केवल मोबाइल नंबर दिखाता है और कोई अन्य जानकारी नहीं।

प्रमुख साइबर सुरक्षा विशेषज्ञ जितेन जैन ने ट्वीट किया, "क्लबहाउस उपयोगकर्ताओं के फोन नंबरों का डेटाबेस डार्कनेट पर बिक्री के लिए तैयार है।"

जैन ने कहा, "इसमें उपयोगकर्ता की फोनबुक में सिंक किए गए लोगों की संख्या भी शामिल है। इसलिए संभावना अधिक है कि आप सूचीबद्ध हैं, भले ही आपने क्लब हाउस लॉगिन न किया हो।"

हालांकि, ऑडियो चैट ऐप ने अभी तक कथित डेटा लीक की पुष्टि नहीं की है।

स्वतंत्र सुरक्षा शोधकर्ता राजशेखर राजहरिया के अनुसार, हैकर कथित क्लबहाउस डेटा बेच रहा है, जिसमें बिना नाम के केवल मोबाइल नंबर हैं।

राजहरिया ने आईएएनएस से कहा, "कोई नाम, फोटो या कोई अन्य विवरण उपलब्ध नहीं है। फोन नंबरों की यह सूची बहुत आसानी से बनाई जा सकती है। डेटा लीक का दावा फर्जी प्रतीत होता है।"

इस साल फरवरी में, अमेरिका में स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने चेतावनी दी थी कि ऐप चीनी सरकार को उपयोगकर्ताओं के ऑडियो डेटा लीक कर सकता है।

स्टैनफोर्ड इंटरनेट ऑब्जर्वेटरी (एसआईओ) ने दावा किया था कि अगोरा, रीयल-टाइम एंगेजमेंट सॉफ्टवेयर का शंघाई स्थित प्रदाता, क्लबहाउस ऐप को बैक-एंड इंफ्रास्ट्रक्च र की आपूर्ति करता है।

हाल ही में, क्लबहाउस ने घोषणा की थी कि यह अब बीटा से बाहर है और सभी के लिए खुला है।

Comments

Leave a comment