स्वास्थ्य/कोरोना

कोरोना के ख़िलाफ़ विश्व युद्ध में मानवता की आस बने भारतीय योद्धा, वैक्सीन बनाने में जी जान से जुटे

कोरोना के ख़िलाफ़ विश्व युद्ध में मानवता की आस बने भारतीय योद्धा, वैक्सीन बनाने में जी जान से जुटे
कोरोना महामारी के विरुद्ध जारी वैश्विक लड़ाई में दुनिया भारतीय वैक्सीन निर्माता सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया प्राइवेट लिमिटेड, पुणे की हर गतिविधि पर टकटकी लगाए हुए है। दुनिया में वैक्सीन के इस सबसे बड़े उत्पादक ने भारत सहित दुनिया के तमाम देशों को 'कोविशील्ड' नामक कोविड-19 वैक्सीन उपलब्ध कराने का जिम्मा ले रखा है, खासकर गरीब अफ्रीकी देशों को। ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी द्वारा विश्व के अलग-अलग हिस्सों में कुल 20 हजार लोगों पर किए गए ट्रायल में यह वैक्सीन 70.4 प्रतिशत कारगर साबित रही है। जबकि कंपनी का कहना है कि दो डोज पूरे होने के निर्धारित समय बाद यह टीका 90 प्रतिशत तक प्रभावशाली होगा। 

सीरम ने बताया कि अनुमति मिलते ही शुरुआती चरण के टीकाकरण के लिए कंपनी भारत को दस करोड़ डोज (दो का सेट) उपलब्ध करा देगी। पांच करोड़ डोज पहले से तैयार हैं, जबकि अनुमति मिलने पर उत्पादन को तेज कर दिया जाएगा। अदार पूनावाला कहते हैं कि यह तो समय ही बताएगा कि वैक्सीन कितनी कारगर होती है, लेकिन अब तक के ट्रायल ने उम्मीद जगाई है कि यह भरपूर कारगर है और अनगिनत जिंदगियों को बचाएगी। सीरम ने जो तैयारी की है और दुनिया ने उस पर जो भरोसा जताया है, वह भारत का गौरव बढ़ाने वाला है। बड़ी बात यह भी है कि इस वैक्सीन को सामान्य फ्रिज में रखा जा सकता है, इसे माइनस 70 वाले कोल्ड स्टोरेज नहीं चाहिए। इससे भी काम आसान हो जाएगा। उम्मीद है कि 2021 के समाप्त होते तक भारत की यह कंपनी आधी दुनिया को कोविड-19 का टीका उपलब्ध करा देगी। 

अदार पूनावाला ने कहा कि भारत सरकार से हालांकि फिलहाल हमारा कोई करार नहीं हुआ है, लेकिन सरकार ने जुलाई तक देश में 40 करोड़ डोज की आवश्यकता जताई है। यदि हमसे कहा जाता है तो हम इसकी पूर्ति करने में सक्षम हैं। कम आय और संसाधन वाले अफ्रीकी देशों को भी हम न्यूनतम कीमत पर यह वैक्सीन मुहैया कराने में सहायक बन रहे हैं। हमारा लक्ष्य लोगों को न्यूनतम कीमत पर गुणवत्तापूर्ण वैक्सीन उपलब्ध कराना है। मूल्य का निर्धारण लागत पर आधारित है, मुनाफे पर नहीं। गरीब देशों के लिए एक डोज की कीमत अधिकतम तीन अमेरिकी डॉलर होगी, जिसे गावी नामक समाजसेवी संगठन मुहैया कराएगा। जबकि भारत में एक डोज की कीमत 400 रुपये के आसपास होगी। संपूर्ण टीकाकरण में दो डोज लेना अनिवार्य होगा।


Comments

Leave a comment