राष्ट्रीय

यूपी में राशन घपला पर कसी लगाम, देश में सबसे पारदर्शी वितरण प्रणाली

यूपी में राशन घपला पर कसी लगाम, देश में सबसे पारदर्शी वितरण प्रणाली
राशन वितरण के मामले में कभी सबसे ज्यादा घपलों के लिए चर्चित उत्तर प्रदेश में सार्वजनिक वितरण प्रणाली (पीडीएस)अब पूरी तरह दुरुस्त व पारदर्शी बन गई है। यहां तक कि उत्तर प्रदेश में देश में पहला राज्य है जहां सबसे पहले 99 फीसदी से अधिक लाभार्थियों को बायोमेट्रिक पहचान के जरिए राशन मिलने लगा। केंद्र सरकार में खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण विभाग के सचिव सुधांशु पांडेय ने बताया कि राशन वितरण प्रणाली को दुरुस्त बनाने में उत्तर प्रदेश की कामयाबी की कहानी बेशक विस्मयकारी है। प्रदेश में राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम 2013 (एनएफएसए) के तहत पीडीएस के 14.60 करोड़ लाभार्थियों को शतप्रतिशत पारदर्शी डिजिटल प्रोसेस के जरिए अनाज मिलने लगा है।

उन्होंने बताया कि देश की सबसे बड़ी आबादी वाले इस प्रदेश में राशन वितरण में लीकेज या घपले पूरी तरह बंद हो गए हैं।

उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी (सपा) और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के करीब दो दशक के शासन काल के दौरान करोड़ों रुपये के पीडीएस से जुड़े अनके घोटालों में उच्च स्तरीय जांच करवाई गई। इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने 2014 में राशन से जुड़े एक घोटाले में सीबीआई जांच का आदेश दिया था। इस घोटाले में शीर्ष स्तर के एक कैबिनेट मंत्री का भी नाम शामिल था।

उत्तर प्रदेश 2019 तक पीडीएस से जुड़े भ्रष्टाचार व घपलों के मामलों की फेहरिस्त में शीर्ष स्थान पर था जहां 328 मामले थे जबकि इस फेहरिस्त में दूसरे नंबर पर बिहार में 108 मामले थे

Comments

Leave a comment